देखें विडियो- शर्म आनी चाहिए कट्टरपंथियों को आज भी तलाक और हलाला का दंश झेल रही हैं मुस्लिम महिलायें- हुमा कुरैशी

शर्म आनी चाहिए कट्टरपंथियों को आज भी तलाक और हलाला का दंश झेल रही हैं मुस्लिम महिलायें- हुमा कुरैशी

शर्म आनी चाहिए कट्टरपंथियों आज भी तलाक और हलाला का दंश झेल रही हैं मुस्लिम महिलाये- हुमा कुरैशी

 

मशहूर मोडल और अभिनेत्री हुमा क़ुरैशी भी तीन तलाक़ के विरोध में उतर आयीं हैं. और महिलाओं के अधिकारों के लिए मोदी सरकार के साथ खड़ी हैं  , हुमा क़ुरैशी भी चाहती हैं कि मुस्लिम लड़कियों को भी अपना अधिकार मिले और वे एक स्वतंत्र जीवन बिता सकें जैसे दूसरे धर्मों और समुदायों की औरतें और लड़कियाँ बिता रही हैं. उन्हें भी आजादी मिले इन शोषण वाली मान्यताओ और रिवाजो से.

शर्म आनी चाहिए कट्टरपंथियों आज भी तलाक और हलाला का दंश झेल रही हैं मुस्लिम महिलाये- हुमा कुरैशी

क़ुरैशी का कहना है कि मुस्लिम समुदाय को ख़ुद ही आगे आना चाहिए और इन बुराइयों को दूर करने का काम करना चाहिए. वक्त की जरूरत है इसे बदल ने की. इस ज़माने में लड़कियाँ चाँद पर पहुँच रही हैं, हर क्षेत्र में अपना नाम रोशन कर रही हैं ऐसा कोई काम नहीं है जो लड़कियाँ या महिलाएँ नहीं कर पा रही हैं फिर दुनिया के दूसरे सबसे बड़े धर्म में औरतों का ऐसा हाल क्यों है ?

शर्म आनी चाहिए कट्टरपंथियों आज भी तलाक और हलाला का दंश झेल रही हैं मुस्लिम महिलाये- हुमा कुरैशी

Loading...

सबसे बड़ी बात तो ये है कि 21 इस्लामिक देशों में तीन तलाक़ नहीं है तो सवाल ये खड़ा होता है कि क्या भारत के मौलवी उन 21 इस्लामिक देशों  के इस्लामिक जानकारों से अलग कोई इस्लाम फ़ॉलो करते हैं या इस्लाम के नाम पर बेवक़ूफ़ बना रहे हैं  ? यहाँ तक की पाकिस्तान और अफगानिस्तान में भी तीन तलाक़ नहीं है. जो भारत से काफ़ी पिछड़े हुए देश माने जाते हैं. भारत इन देशो से हर चीज में आगे होते हुए भी इस्लाम से पिछड़ रहा है. ये कुरीति बंद होनी ही चाहिए.

NEXT कर आगे देखे :- इस संदर्भ में हुमा का विडियो 

Follow us on facebook -