इस्लामिक सार्वजनिक बलात्कार का खेल ‘तहर्रूश’ अब भारत में भी ..

इस्लामिक सार्वजनिक बलात्कार का खेल ‘तहर्रूश’ अब भारत में भी ..

इस्लामिक सार्वजनिक बलात्कार का खेल 'तहर्रूश' अब भारत में भी ..

 

अरब देशों से निकल अब भारत में अपनी जड़ें जमाता एक घिनौना खेल तहर्रुश गेमिया, जिसमे परम्परा के नाम पर किया जाता है शिकार

क्या कभी सोचा है कि परंपरा के नाम पर भी कोई लड़की यौन उत्पीड़न की शिकार हो सकती है..? इस सवाल का जवाब है हां और ऐसा कही और नहीं बल्कि अरब के कुछ देशों में ऐसा आज भी होता है और इसे वहां ‘तहर्रुश गेमिया’ के नाम से जाना जाता हैl

इस्लामिक सार्वजनिक बलात्कार का खेल 'तहर्रूश' अब भारत में भी ..

Loading...

जी हाँ शायद ये सुनने में आपको किसी अन्य खेल की तरह लग रहा होगा लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी की सार्वजनिक स्थलों पर खेले जाने वाले इस खेल में एक अकेली गैर मुस्लिम लड़की के साथ न केवल यौन रूप से प्रताड़ित किया जाता है बल्कि बक़ायदा सामूहिक बलात्कार किया जाता हैl आपको शायद सुन कर झटका लगेगा कि ये इस्लाम की एक ऐसी घिनौनी परंपरा है जो अरब देशों से निकलकर यूरोप में पूरी तरह अपने पैर पसार चुकी हैं और अब भारत है इसके अगले निशाने परl

इस्लामिक सार्वजनिक बलात्कार का खेल 'तहर्रूश' अब भारत में भी ..

जो लोग इस्लाम की दुहाई देते हुए उसे पाक साफ बताते हैं आज हम आपको इस पोस्ट के द्वारा इस बात से अवगत कराने जा रहे हैं कि इस्लाम में धर्म के नाम पर कितना घिनौना काम होता हैl पता नहीं परंपरा की आड़ में ऐसा घिनौना काम करने की इजाज़त आखिर इस्लाम देता ही क्यों है और साथ ही इस्लाम में औरतो की क्या इज्जत है…

आपको बता दें कि इस्लाम के इस परंपरा के अनुसार ’तहर्रुश’ को सिर्फ सार्वजनिक रूप से ही अंजाम दिया जाता हैl ऐसा प्रदर्शनों के दौरान या फिर बड़ी संख्या में जमा हुई भीड़ के बीच ही किया जाता हैl

‘तहर्रुश’ एक तरह का महिलाओं का यौन उत्पीड़न (सेक्शुअल हैरसमेंट) होता हैl इसमें बलात्कार, पिटाई, नाम बुलाना, जबर्दस्ती छूना, यौन आमंत्रण और लूट को अंजाम दिया जाता हैl

अन्य संबंधित समाचार 

6 महीने के अंदर इस्लाम कबूल करो, नहीं तो हाथ-पैर काट कर देंगे अल्लाह की बेज्जती की सजा

इस्लामिक रिवाज का घिनौना चेहरा:- ये मुस्लिम लड़का करना चाहता है था अपनी माँ के साथ हलाला

जानिये मुताह को:-जो हलाला की तरह ही इस्लाम में एक और मान्यता प्राप्त कुकर्म है

फतवा : महिलाओं द्वारा बास्केट खेलना गैर-इस्लामिक एवं इस्लाम को खतरा

इस्लामिक धार्मिक चैनल पर 20 मिनट चलती रही पोर्न फिल्म

 

इस उत्पीड़न को भीड़ के साथ बड़े इवेंट्स, रैली, प्रदर्शन, कॉन्सर्ट या पब्लिक इवेंट्स के दौरान किया जाता है जहाँ पुरुषों की भीड़ सबसे पहले पीड़ित महिला के आसपास एक घेरा बना लेती हैl जिसमे से वे सार्वजनिक रूप से कुछ महिला का यौन उत्पीड़न करते हैं जबकि बाकी बाहरी लोगों को दूर हटाने का काम करते हैl कुछ पुरुष तो सरेआम महिलाओं से हो रहे सामूहिक रेप की घटना को देख भी रहे होते हैंl ये देखा गया है कि इस तरह की घटना की पीड़ित महिला अचानक हुए इस हमले से ‘स्टेट ऑफ शॉक’ की हालत में पहुंच जाती है और किसी तरह का जवाब नहीं दे पाती हैl जिसके चलते कानून अपनी कारवाही नहीं कर पता और आरोपियों को उनके इस जुर्म की सजा नहीं मिल पाती हैl

आपको बता दें कि खेल की आड़ में हैवानियत का नंगा नाच जो पहले अरब देशों से निकल कर यूरोप में पंहुचा और वो अब भारत में भी जड़े जमाने लगा है ।

Follow us on facebook -