महाराष्ट्र सरकार ने की मुगलों की समाप्ति, अब बस शिवाजी की गाथाओं की गूंज होगी

महाराष्ट्र सरकार ने की मुगलों की समाप्ति, अब बस शिवाजी की गाथाओं की गूंज होगी

महाराष्ट्र सरकार ने की मुगलों की समाप्ति, अब बस शिवाजी की गाथाओं की गूंज होगी

हल्दी घाटी का युद्ध जिसमें अब तक बताया जाता था कि अकबर ने महाराणा प्रताप को हरा दिया था, उसकी हाल ही में एक शोध के बाद सच्चाई सामने आई कि वो युद्ध महाराणा प्रताप ने जीता था। यानि अब तक वामपंथी इतिहासकारों ने जो भारतीय इतिहास को धूमिल कर रखा था, उस इतिहास का शुद्धिकरण किया जा रहा है। अब देश के युवा शिक्षा में भी सच ही पढ़ेंगे।

महाराष्ट्र सरकार ने की मुगलों की समाप्ति, अब बस शिवाजी की गाथाओं की गूंज होगीहाल ही में महाराष्ट्र सरकार ने भी एक कदम उठाते हुए मुगलों की झूठी शान पर हथोड़ा चला दिया है। बता दें कि महाराष्ट्र के स्कूलों में 8वीं और 9वीं के सिलेबस में मुगलों को गायब कर दिया गया है। अब पूर्ण रूप से इस सिलेबस में वीर मराठा योद्धा शिवाजी के साम्राज्य को ही रखा गया है।

अब मुगलों को गायब किया गया है तो मुस्लिम तुष्टिकरण की राजनीति करने वाले नेताओं को भी मुद्दा मिल गया। इस फैसले के विरोध में समाजवादी पार्टी, एनसीपी और कांग्रेस ने स्टेट शिक्षा बोर्ड की निंदा की है।

Loading...

Maharashtra Govt removed Chapter on Mughals from textbooks, Opposition attacks BJPबता दें कि जहां अब से बच्चे मुगलों की झूठी गाथाओं को नहीं पढ़ेंगे, तो वहीं दूसरी ओर कांग्रेस के कुकर्म जैसे बोफोर्स घोटाला और इमरजेंसी के दौर को उनके पाठ्यक्रम में शामिल किया गया है।

विपक्ष का कहना है कि शिक्षा मंत्री तावड़े ने आरएसएस के प्रभाव में ये कदम उठाया है। साथ ही विपक्ष का ये भी कहना है कि मुगलों की कला और सँस्कृति को हम कैसे भूल सकते हैं। हालांकि वो बात अलग है कि आज तक ये नहीं पढ़ाया गया कि मुगलों ने कितने मंदिरों को तोड़ कितनी मस्जिदें बनाई, और इस पर कभी कोई नेता-इतिहासकार कुछ बोला भी नहीं।

वहीं अब महाराष्ट्र में बच्चों को शिवाजी और उनके परिवार के योगदान के बारे में सम्पूर्ण रूप से पढ़ाया जाएगा। आइडियल रूलर नाम से एक अध्याय में शिवाजी की वीरता का बखान भी किया गया है।

Follow us on facebook -