अब बद्रीनाथ पर भी ठोका मुस्लिमो ने अपना दावा, सरकार को भेजी मांगें

अब बद्रीनाथ पर भी ठोका मुस्लिमो ने अपना दावा, सरकार को भेजी मांगें

 

अभी अयोध्या, ताजमहल आदि विवाद सुलझे नही है दूसरी ओर दारुल उलूम निसवा के मोहतमिम मौलाना अब्दुल लतीफ ने हिन्दुओ के प्रमुख धार्मिक स्थान बद्रीनाथ पर मुस्लिमो का दावा रखते हुए प्रशासन से उसे वापस दिलाने की मांग रख दी है.

सहारनपुर के देवबंद में उत्तराखंड के रक्षा अभियान दल द्वारा बद्रीनाथ में रहने वाले मुसलमानों को गोमूत्र व गंगाजल पीने, नहीं तो बद्रीनाथ छोड़ने की धमकी दिए जाने पर दारुल उलूम निसवा के मोहतमिम मौलाना अब्दुल लतीफ ने कहा है कि धमकी देने वाले संगठन को शायद पता नहीं है कि बद्रीनाथ बदरुद्दीन शाह है जो मुसलमानों का धार्मिक स्थल है.

उत्तराखंड रक्षा अभियान दल की धमकी पर मंगलवार को प्रतिक्रिया देते हुए मौलाना अब्दुल लतीफ ने कहा कि एक तो इस संगठन के अंदर कोई भी पढ़ा लिखा व्यक्ति नहीं है. दूसरा इन्हें इतिहास की जरा भी जानकारी नहीं है.

Loading...

जिसकी वजह से यह फिजूल की बयानबाजी कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि असल बात यह है कि बद्रीनाथ धाम बद्रीनाथ नहीं है वो तो बदरुद्दीन शाह है जो मुसलमानों का धार्मिक स्थल है. इसलिए कायदे में उसे मुसलमानों के हवाले कर देना चाहिए.

नाथ लगाने से कोई व्यक्ति या स्थल हिंदू नहीं हो जाता. यह संगठन पहले इतिहास उठाकर देखें और उसके बाद बयानबाजी करें. मौलाना अब्दुल लतीफ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री से उल्टे सीधे बयान देने वाले ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई किए जाने की मांग की है.

हिन्दू समाज में ऐसे बेतुके बयानों से रोष है पहले से ही अनेक हिन्दू स्थलों का इस्लामीकरण किया हुआ है. जिसमे ताजमहल, लाल किला, कुतुबमीनार और जामा मस्जिद आदि प्रमुख है. उसी प्रक्रम को दोराहा जा रहा है.

अन्य संबंधित समाचार 

भारत की वे मस्जिदे, जो प्रसिद्ध मंदिरों को तोड़ कर बनाई गयी थी

ताजमहल में बंद हो नमाज पढ़ना वरना शिव चालीसा भी करने दें

जानें क्या है लालकिले का सच ? इसे शाहजहाँ ने नहीं एक हिन्दू राजा ने बनवाया था

जामा मस्जिद पहले माँ भद्र काली और यमनोत्री देवी का हिन्दू मंदिर था

दुनिया के सबसे क्रूर शासक को एक हिन्दू राजा ने बंदी बनाकर उज्जैन की गलियों में घुमाया था

 

Follow us on facebook -