जानें – रक्षाबंधन शुभकाल और चंद्र ग्रहण अगस्त 7, 2017 विशेष, क्या करें क्या न करें

जानें – रक्षाबंधन शुभकाल और चंद्र ग्रहण अगस्त 7, 2017 विशेष, क्या करें क्या न करें

जानें - रक्षाबंधन शुभकाल और चंद्र ग्रहण अगस्त 7, 2017 विशेष, क्या करें क्या न करें

चन्द्रमा और सूर्य के बीच में पृथ्वी के आ जाने को ही चन्द्र ग्रहण कहते हैं। चंद्र ग्रहण तब होता है, जब सूर्य व चन्द्रमा के बीच पृथ्वी इस प्रकार से आ जाती है कि पृथ्वी की छाया से चन्द्रमा का पूरा या आंशिक भाग ढक जाता है। जब इस स्थिति में पृथ्वी सूर्य की किरणों के चन्द्रमा तक पहुँचने में अवरोध लगा देती है तो पृथ्वी के उस हिस्से में चन्द्र ग्रहण नज़र आता है। इस ज्यामितीय प्रतिबंध के कारण चन्द्र ग्रहण केवल पूर्णिमा की रात्रि को घटित हो सकता है।

 

चंद्र ग्रहण के प्रकार

चन्द्र ग्रहण का प्रकार एवं अवधि चन्द्र आसंधियों के सापेक्ष चन्द्रमा की स्थिति पर निर्भर करते हैं। चन्द्र ग्रहण दो प्रकार का नज़र आता है-

Loading...

पूरा चन्द्रमा ढक जाने पर ‘सर्वग्रास चन्द्रग्रहण’

आंशिक रूप से ढक जाने पर ‘खण्डग्रास (उपच्छाया) चन्द्रग्रहण’

पृथ्वी की छाया सूर्य से 6 राशि के अन्तर पर भ्रमण करती है तथा पूर्णमासी को चन्द्रमा की छाया सूर्य से 6 राशि के अन्तर होते हुए जिस पूर्णमासी को सूर्य एवं चन्द्रमा दोनों के अंश, कला एवं विकला पृथ्वी के समान होते हैं अर्थात एक सीध में होते हैं, उसी पूर्णमासी को चन्द्र ग्रहण लगता है।

 

ग्रहण की अवधि

विश्व में किसी सूर्य ग्रहण के विपरीत, जो कि पृथ्वी के एक अपेक्षाकृत छोटे भाग से ही दिख पाता है, चन्द्र ग्रहण को पृथ्वी के रात्रि पक्ष के किसी भी भाग से देखा जा सकता है। जहाँ चन्द्रमा की छाया की लघुता के कारण सूर्य ग्रहण किसी भी स्थान से केवल कुछ मिनटों तक ही दिखता है, वहीं चन्द्र ग्रहण की अवधि कुछ घंटो की होती है। इसके अतिरिक्त चन्द्र ग्रहण को सूर्य ग्रहण के विपरीत किसी विशेष सुरक्षा उपकरण के बिना नंगी आँखों से भी देखा जा सकता है, क्योंकि चन्द्र ग्रहण की उज्ज्वलता पूर्ण चन्द्र से भी कम होती है।

 

इस वर्ष 7 अगस्त को चंद्रग्रहण रात 10.53 बजे से शुरू होगा इसलिये चंद्रग्रहण से 9 घंटे पहले यानी दोपहर 1.53 बजे से सूतक लग जाएगा। इस दिन रक्षाबंधन भी होने के कारण कई लोग असमंजस में है कि आखिर रक्षासूत्र बांधने का उपयुक्त मुहूर्त कब माने उनकी शंका समाधान के लिए बताया जा रहा है 7 अगस्त की सुबह 11.04 बजे तक भद्रा काल का असर रहेगा। चूंकि सूतक और भद्रा दोनों में ही शुभ कार्य वर्जित हैं, इसलिए इन दोनों के बीच का समय राखी बांधने के लिए शुभ है। सुबह 11.05 बजे से लेकर 1.52 मिनट तक आप रक्षा बंधन का त्योहार मना सकते हैं।

NEXT कर आगे पढ़ें :- ग्रहण में क्या करें, क्या न करें ?

Follow us on facebook -