वर्तमान की संजीवनी बूटी से कम नहीं यह सब्जी जानिए इसके स्वास्थ लाभ

वर्तमान की संजीवनी बूटी से कम नहीं यह सब्जी जानिए इसके स्वास्थ लाभ

वर्तमान की संजीवनी बूटी से कम नहीं यह सब्जी जानिए इसके स्वास्थ लाभ

चौलाई ऐसी पत्तेदार सब्जी है जो हर मौसम में पायी जाती है। सदाबाहर सब्जी चौलाई संजीवनी बूटी से कम नहीं है। सेहत के लिए फायदेमंद होने के कारण ही चौलाई पौष्टिक सब्जियों की सूची में शामिल है।

इसमें जितने पौष्टिक तत्व और खनिज मिलते है, उतने बहुत ही कम सब्जियों में होते है अनेक औषधीय गुणों वाली यह सब्जी दुनिया भर में पाई जाती है।

 

संबंधित आयुर्वेदिक लेख 

Loading...

मधुमेह को नियंत्रित करने में अचूक है यह आयुर्वेदिक दवा

“अनिद्रा” अनेक बीमारियों की जड, जानें इस समस्या के सरल आयुर्वेदिक उपाय

मुर्दे को जलाने या दफ़नाने से पहले ये आयुर्वेदिक परीक्षण अवश्य करें – बचाई जा सकती हैं अनेक जानें

दिमागी ताकत एवं स्मरण शक्ति बढ़ाने हेतु अपनाएं ये आयुर्वेदिक नुस्खे

जानें आयुर्वेद अनुसार रात में दही क्यूँ नहीं खानी चाहिए

गर्मियों में ये आयुर्वेदिक उपाय अपनायें और रहें तरोताजा

18 मुख्य रोगों की एक रामबाण आयुर्वेदिक दवा

 

गर्मी हो या बरसात का मौसम सेहत के लिए बहुत ही उपयोगी सब्जी मानी जाने वाली चौलाई हरी पत्तेदार सब्जियों में प्रमुख है।

जहा अधिकांश साग और पत्तेदार सब्जियां शीत ऋतू में उगाई जाती है। वही यह गर्मी और बरसात की सब्जी है। लेकिन इसे साल में कभी भी उगाया जा सकता है। इसकी ठंडी पत्तियों में कार्बोहायड्रेट, प्रोटीन, कैल्शियम, विटामिन ए, विटामिन सी, मिनरल्स और लोह जैसे पौष्टिक तत्व प्रचुर मात्रा में मिलते है।

इसकी सबसे बड़ी विशेषता यह है की इसमें सोना धातु भी पाया जाता है। जो की दूसरे साग सब्जियों में नहीं पाया जाता है। अनेको औषधीय गुणों के चलते ही चौलाई को आयुर्वेद में अनेक रोगो के उपचार में बहुत उपयोगो बताता गया है।

चौलाई कफ और पित्त का नाश करती है। इससे खून से गंदगी साफ होती है  और खून शुद्ध होता है। यह पेट की बीमारियों के इलाज के लिए भी गुणकारी होती है। क्योंकी इसमें रेशे, क्षार द्रव्य होते है। इससे कब्ज की समस्या कम हो जाती है। पाचन तंत्र मजबूत होता है। इसका नियमित सेवन करने से वात और त्वचा के विकार दूर होते है। वर्तमान की संजीवनी बूटी से कम नहीं यह सब्जी जानिए इसके स्वास्थ लाभ

छोटे बच्चे को कब्ज होने पर  चौलाई का दो तीन चम्मच रस लाभदायक होता है। महिलाओ के रोगो में भी यह फायदेमंद  है।

चौलाई के तेल में एन्टीइन्फ्लमेटरी गुण होगा है।  जो दर्द और सूजन को सहजता से कम करने में सहायक है।

इसमें करीब 15 फीसदी प्रोटीन होता है जो वजन घटने में सहायता करता है।

इसके नियमित सेवन से बालो को असमय सफ़ेद होने से बचाया जा सकता है।

इसमें मौजूद फायबर ब्लडप्रेशर को नार्मल रखने में सहायक हैं।

Follow us on facebook -