जानें हिन्दू धर्म में सिंदूर का महत्व

जानें हिन्दू धर्म में सिंदूर का महत्वसिंदूर का महत्व

 

यदि आप एक हिन्दू परिवार से हैं और एक विवाहित स्त्री भी हैं, तो सिंदूर का क्या महत्व होता है यह हमें आपको समझाने की जरूरत नहीं है। हिन्दू परिवार की महिलाओं के लिए सिंदूर किसी भी अन्य वस्तु से बढ़कर है।

 

सिंदूर और मंगलसूत्र

 

सिंदूर के अलावा मंगलसूत्र भी उन्हें किसी भी अन्य मूल्यवान वस्तु से अधिक प्रिय है। महंगे से महंगे अभूषण भी उनके लिए मंगलसूत्र के आगे कम हैं। ये मान्यताएं और उनका विश्वास ही है, जो इन चीजों को इतना अधिक महत्व देता है।

Loading...

 

सिंदूर से जुड़े तथ्य

 

किंतु क्या आपने कभी सिंदूर के बारे में गहराई से जाना है? उसका इतना महत्व क्यों है और उसका प्रयोग विवाहित महिलाओं के लिए इतना आवश्यक क्यों है, इन सभी सवालों का जवाब ही सिंदूर को महत्वपूर्ण बनाता है।

 

क्यों है जरूरी

यह तो सभी जानते हैं कि हिन्दू महिलाओं के लिए सिंदूर सुहाग की निशानी होती है। इसे वह अपने पति की खुशी से जोड़ती हैं। विवाहित होकर भी सिंदूर ना लगाना अशुभ माना जाता है

 

सिन्दूर क्या है –  अजेष्ठ त्रिपाठी जी का लेख–

 

सिंदूर (cinabar) – मरक्यूरिक सल्फाइड – Mercuric Sulphite (HgS)

 

सिन्दूर लाल रंग एक चमकीला सा चूर्ण होता है जिसे विवाहित स्त्रियाँ अपनी माँग में भरती हैं। प्राचीन हिंदू संस्कृति में भी सिन्दूर का काफ़ी महत्व था। ऐसा माना जाता है कि यह प्रथा 5000 वर्ष पूर्व से ही प्रचलित है।

सनातन संस्कृति में विवाहित महिलाओं को पति द्वारा माँग में सिन्दूर भरा जाता है सिन्दूर लगाते समय मंत्रोउच्चार मे कहा जाता है कि –

 

सम्राज्ञी श्वसुरे भव, सम्राज्ञी श्वश्रवाँ भव।

ननान्दरि सम्राज्ञी भव, सम्रज्ञी अधि देवृषु ।।

इहैव स्तं मा वि योष्टं विश्वसायुर्व्यश्नुतम्।

क्रीडन्तौ प्र्त्रैर्नप्तृभिर्मोदमान्नौ स्वस्त कौ।।

अर्थात –

सम्राज्ञी बनो श्वसुरजी की, तुम बनो सास की सम्राज्ञी

सब ननद और देवरजन की, हो स्नेह राज्य की सम्राज्ञी

हे नवदम्पति हो साथ सदा, आबद्ध प्रेम- आकर्षण में

तुम पूर्ण आयु आनन्द करो, मिल जग आंगन सुख वर्षण में प्रिय पुत्र- पौत्र शिशु क्रीडायें, उल्लास बढ़ायें जीवन में

हो प्रेम श्रेय के अधिकारी, तुम तन- मन कीर्ति आयुधन में

 

अब कोई भी नारीवादी जरा ये बताने का कष्ट करेंगी की इसमे गुलामी जैसा क्या है ।।

माता सीता ने किया था पहला छठ पूजन, यहां मौजूद हैं उनके पदचिन्ह

सिन्दूर बनता कैसे है –

 

हल्दी + चूना (slaked lime) + पानी = सिन्दूर

इसमे पारे का प्रयोग भी होता है जिसे सामान्यतः घर पे बने सिन्दूर में लोग इस्तेमाल नही करते है।।

 

तरीका –  समान मात्रा में एक साथ मिलायें और उसमें ज़रूरत के अनुसार पानी डालकर पेस्ट बना लें पेस्ट को छोटे गोले का रूप दें और धूप में सूखने के लिए छोड़ दें

सूखने के बाद गोले को पीसकर सिंदूर बना लें।

 

सिन्दूर तब और अब –

 

जहाँ पहले लोग सिन्दूर 5000 सालो से घर पर बनाते आये थे अब पश्चिमीकरण के दौर में आसानी से बाजारों में सिंथेटिक सिन्दूर हर जगह बिक रहा है आज कुछ अनब्रैंडेड लाल रंग के पावडर मिलते हैं जिनके दाम दूसरे सिंदूर के तुलना में कम होते हैं। क्योंकि उत्पादक सिंदूर को सस्ता बनाने के लिए उसमें विषाक्त पदार्थ डालते है जो सिंदूर के रंग को और भी लाल बनाने में सहायता करते हैं। ऐसे सिंदूर नारियों को बहुत आकर्षक लगते हैं और वे इन्हें खरीदने के समय इसमें इस्तेमाल किए गए सामग्रियों को देखते भी नहीं हैं।

 

इनमे से मुख्यतः —

 

सिंगरिफ (cinnabar) पावडर के रूप में होता है जो साधारणतः नारंगी लाल रंग का होता है , रासायनिक डाई और दूसरे सिन्थेटिक तत्व होते हैं, लाल कच्चा सीसा (crude red lead) पावडर के रूप में होता है, पीबी 304, रोडामाइन बी डाई ,मर्क्यरी सल्फाइट आदि तत्व होते हैं।।

 

सिन्दूर लगाने से लाभ –

 

सिन्दूर के संबंध में पौराणिक मान्यता के अलावा कुछ वैज्ञानिक कारण भी है। इससे रक्त चाप तथा पीयूष ग्रंथि भी नियंत्रित होती है। सिंदूर को धातु पारे के साथ हल्दी व चूने के मिश्रण से तैयार किया जाता है। पारा रक्तचाप को नियंत्रित रखने में मदद करता है एवं महिलाओं की यौन इच्छा को सक्रिय करता है। जिसके कारण इसमें एक शारीरिक महत्व भी शामिल हो जाता है। इसलिए सिंदूर को हमारी भावनाओं के केन्द्र, पिट्यूटरी ग्रंथ पर लगाना चाहिए।

 

सिर के उस स्थान पर जहां मांग भरी जाने की परंपरा है, मस्तिष्क की एक महत्वपूर्ण ग्रंथी होती है, जिसे ब्रह्मरंध्र कहते हैं । यह अत्यंत संवेदनशील होती है । यह मांग के स्थान यानी कपाल के अंत से लेकर सिर के मध्य तक होती है । सिंदूर इसलिए लगाया जाता है क्योंकि इसमें पारा नाम की धातु होती है । पारा ब्रह्मरंध्र के लिए औषधि का काम करता है । महिलाओं को तनाव से दूर रखते हुवे यह मस्तिष्क को हमेशा चैतन्य अवस्था में रखता है। विवाह के बाद ही मांग इसलिए भरी जाती है क्योंकि विवाह के बाद जब गृहस्थी का दबाव महिला पर आता है तो उसे तनाव, चिंता और अनिद्रा जैसी बीमारिया आमतौर पर घेर लेती हैं । पारा एकमात्र ऐसी धातु है जो तरल रूप में रहती है । यह मष्तिष्क के लिए लाभकारी है, इस कारण सिन्दूर मांग में भरा जाता है ।

 

सिन्दूर शरीर के ब्लड प्रेशर को कंट्रोल रखता है। विधवा औरतें इसे नहीं लगातीं क्योंकि ऐसा माना जाता है कि सिन्दूर यौन उत्तेजनाएं बढ़ाता है।

 

एक्यूप्रेशर के GV22 से GV29 पॉइंट तक दवाब बनाये रखने के लिए भी सिन्दूर लगाया जाता है जिससे कि चिड़चिड़ापन कम होता है डिप्रेशन ,हायपर एक्टिविटी को कम करता है, इसपे दवाब से चेतना ,ब्लड सर्कुलेशन सामान्य रहता है और अन्य मौसमी बीमारियों से बचाव होता है 1st कमेंट में इसकी पिक आपको दे रहा हूँ।।

इस पॉइंट को एक्यूप्रेशर में कंट्रोलिंग पॉइंट कहते है ।।

 

पिछली बार की तरह कुछ महिला मित्रो को ये ना लगे कि सिर्फ स्त्रियों के लिए ही क्यों तो वो ये जान ले कि भारत में सिर्फ महिलाएं ही नहीं बल्कि पुरुष भी अपने माथे पर तिलक लगाते हैं। और इन पॉइंट्स को manag करने के लिए साफा ,बाना ,पगड़ी ,टोपी पहनते थे। आप चुटिया या चोटी को भी इसका ही हिस्सा मान सकते है ।।

 

जानें हिन्दू धर्म में सिंदूर का महत्वनाक तक सिन्दूर –

छठ जैसे त्योहारो पर नाक तक सिन्दूर लगाने का मजाक बनाने वाले मानसिक विकलांगो को पता होना चाहिए कि हमारी आंखों के बीच में माथे तक एक नस जाती है। कुमकुम या तिलक लगाने से उस माथे की बीच वाली जगह पर एनर्जी बनी रहती है। तिलक लगाने या बिंदी लगाने के दौरान उंगली से चेहरे की स्किन के बीच संपर्क होता है तो चेहरे की स्किन को रक्त सप्लाई करने वाली मांसपेशियां सक्रिय हो जाती हैं। इससे चेहरे की कोश‍िकाओं में ब्लड सर्कुलेशन बना रहता है।यही प्रक्रिया नाक तक सिन्दूर लगाने के दौरान भी होती है ।। इसके लिए भी कमेंट बॉक्स की पिक देखे ।।

 

विशेष – सिंदूर हर विवाहित स्त्री के लिए उनके सुहागन होने की निशानी के रूप में भी देखा जाता है क्योकि सिर्फ विवाहित स्त्रियाँ ही इसे लगा सकती है। इस तरह सिंदूर भरने को भी संस्कार माना जाता है जोकि सुमंगली क्रिया में आता है । शादी होने के बाद से लेकर पति या अपनी मृत्यु तक हर वैवाहिता अपनी मांग में सिंदूर अवश्य लगाती है। इसे नारी के श्रृंगार में एक अहम स्थान प्राप्त है जिसे महिलाओं के लिए मंगल सूचक माना जाता है

जिस तरह के सिंदूर के लाभ है उनसे ये कहा जाता है कि सिंदूर महिलाओं के लिए अमृत या जीवन की तरह होता है क्योकि ये ना सिर्फ चिंता मुक्त करता है बल्कि अनिद्रा, सिर दर्द, याददाशत का कमजोर होना, मन की में अशांति और चेहरे की झुर्रियाँ जैसी समस्याओं को भी दूर करता है। समुद्र शास्त्र में तो ये भी लिखा गया है कि सिंदूर अभागिन स्त्रियों के लिए नए भाग्य के द्वार खोलता है और उनके सभी दोषों का निवारण करता है।।

 

सिन्दूर जहाँ शौभाग्य का प्रतीक है वही स्वास्थ्य के लिए हितकर भी क्योकि ये ना सिर्फ चिंता मुक्त करता है बल्कि अनिद्रा, सिर दर्द, याददाशत का कमजोर होना, मन की में अशांति और चेहरे की झुर्रियाँ जैसी समस्याओं को भी दूर करता है,उस सिन्दूर को सौभाग्य की जगह गुलामी का प्रतीक मानना और कुछ नही बस मानसिक दिवालियापन है ।।

Follow us on facebook -