तमिलनाडु में पेरियार समर्थको ने काटे 8 ब्राह्मणों के जनेऊ, इलाके में हंगामा व तनाव

तमिलनाडु के वेल्लूर में मंगलवार को पेरियार की मूर्ति क्षतिग्रस्त किए जाने के बाद से ही तनाव की स्थिति बनी हुई है। लेकिन इस बीच पेरियार समर्थको द्वारा की गयी एक शर्मनाक घटना सामने आई है।

चेन्नई में सामूहिक रूप से ब्राह्मणों के साथ मारपीट और जनेऊ तोड़ने के मामले

मूर्तियाँ तोड़े जाने से फैले तनाव के बीच नास्तिक मत का प्रचार करने वाले पेरियार समर्थको द्वारा चेन्नई के ट्रिप्लिकेन में आठ ब्राह्मणों के पुनाल (जनेऊ) जबरदस्ती काटने का मामला सामने आया है।

यह घटना बीजेपी सचिव एच राजा के एक पोस्ट के बाद भी बरपा है जिसमें उन्होंने पेरियार की मूर्ति गिराने की बात कही थी। लेकिन इस घटना के बाद ब्राह्मणों को निशाना बनाए जाने से इलाके में भारी तनाव फ़ैल गया है।

खबरों के अनुसार चेन्नई के ट्रिप्लिकेन में करीब आठ-दस बाइकसवार युवकों ने आठ ब्राह्मणों के ‘पुनाल’ (जनेऊ) जबरदस्ती काट दिए और मौके से भाग निकले। रामास्वामी पेरियार को नास्तिकता (या तर्कवाद) के प्रसार के लिए जाना जाता है। उन्होंने द्रविड़ कड़गम नाम से राजनीतिक पार्टी बनाई थी।

इसकी विभिन्न शाखाओं और डीएमके जैसी द्रविड़ियन पार्टियों के सदस्यों ने खुले तौर पर नास्तिकता का प्रसार किया था और उसे स्वीकार किया था। ब्राह्मणों के जनेऊ काटने की घटना को उनकी आस्तिकता पर हमला माना जा रहा है।

दरअसल राज्य के बीजेपी नेता एच राजा ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट में त्रिपुरा में लेनिन की मूर्ति गिराए जाने को सही ठहराया था, जिसके बाद से राज्य में हंगामा शुरू हुआ।

राजा ने लिखा था, ‘लेनिन कौन हैं? उनके और भारत के बीच क्या संबंध है? कम्युनिज्म और भारत का क्या संबंध है? त्रिपुरा में लेनिन की मूर्ति गिरा दी गई। आज यह त्रिपुरा में लेनिन की मूर्ति है, कल यह कट्टरपंथी ईवी रामास्वामी की मूर्ति होगी।’

Loading...

एच राजा के इस पोस्ट के बाद वेल्लूर में पेरियार की मूर्ति को क्षतिग्रस्त किया गया और शाम को बीजेपी दफ्तर पर बम फेंकने की बात भी सामने आई। इस तनाव के बीच गृह मंत्रायल ने भी मूर्तियां तोड़े जाने की घटनाओं को संज्ञान में लिया है।

Follow us on facebook -