बीजेपी, आरएसएस पर भडकी हिन्दू महासभा, कहा हमें गर्व है अपने कार्यकर्त्ता गोडसे पर

महात्मा गाँधी की हत्या के मामले में सुप्रीम कोर्ट द्वारा फिर से जांच दल बिठाने पर हिन्दू महासभा ने भड़क कर बीजेपी और आरएसएस को इस मामले से दूर रहने की सलाह देते हुए गोडसे पर राजनीति करने का आरोप लगाया है।

गाँधी का वध ना होता तो सरदार पटेल मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे देते

हिन्दू महासभा ने कहा है की नाथूराम गोडसे ने महात्मा गाँधी की हत्या की थी। जबकि गोडसे का सम्बन्ध हिन्दू महासभा से है न की आरएसएस और बीजेपी से, यह हमारी विरासत है और बीजेपी आरएसएस इसका श्रेय न ले।

हिन्दू महासभा ने आरएसएस और बीजेपी पर गोडसे की विचारधारा के श्रेय लेने का आरोप लगाते हुए कहा की गोडसे का महासभा से अभिन्न रिश्ता था और गोडसे के बिना महासभा का कोई आधार नहीं है इसलिए हम ऐसा नहीं होने देंगे।

Loading...

हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अशोक शर्मा ने कहा की गाँधी हत्या केस में चौथी गोली की बात करके दुबारा जांच की मांग करने वाली आरएसएस और बीजेपी संशय पैदा कर रहे है। ऐसे में उनका असली चेहरा जनता के सामने आना चाहिए की उनका गोडसे से कुछ लेना देना नहीं है।

अभिनव भारत के संस्थापक पंकज फडनिस ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका डाल कर दावा किया था की गाँधी की हत्या काफी संदेहास्पद है क्यूंकि उन पर चार गोलियां चलाई गयी थी जिसमे से 3 गोलियां नाथूराम गोडसे ने चलाई थी फिर चौथी गोली किसने मारी इस पर संशय है।

याचिकाकर्ता ने ये भी दावा किया की महात्मा गाँधी की हत्या काफी संदेहास्पद है इसलिए उनकी हत्या की जांच दुबारा की जाए क्यूंकि उनके असली हत्यारे कभी पकड़े नहीं गए है सुप्रीम कोर्ट ने पूछा था की आखिर 70 साल बाद ये केस फिर क्यों खोला जाए तो याचिकाकर्ता ने इस पर कई कारण गिनाये।

याचिका में दावा किया गया है की गाँधी की हत्या किसी अन्य संगठन ने की हैउन्होंने कई खबरों और अखबारों का हवाला देते हुए कहा की महात्मा गाँधी को तीन नहीं चार गोलियां मारी गयी थी जो अपने आप में हत्या पर बड़ा सवाल खड़ा करता है।

Follow us on facebook -