इस मामले में चीन और रूस को पछाड भारत बना नंबर 1..

भारत ढेरों क्षेत्रों लगातार विश्व में अपना दबदबा बनाते जा रहा है. हाल ही में आई एक रिपोर्ट के अनुसार देश के घरेलू विमान यात्रियों की संख्या में सितम्बर में 15.5 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई है। इस रिपोर्ट अनुसार प्रमुख विमानन बाजारों में भारत शीर्ष स्थान पर रहा, जबकि चीन दूसरे स्थान पर है।

खबर अनुसार इंटरनेशनल एयर ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन (आईएटीए) द्वारा शुक्रवार को अपने वैश्विक विमान यात्रियों के आंकड़े में कहा गया है कि भारत की घरेलू मांग (प्रति यात्री राजस्व या आरपीके) प्रमुख विमानन बाजारों में सबसे अधिक है। रिपोर्ट में कहा गया है कि प्रमुख विमानन बाजारों में ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, चीन, जापान, रूस और अमेरिका शामिल हैं।

आईएटीए द्वारा जारी किये गये इन कड़ों से सामने आया है कि भारत के आरपीके (यात्रियों की संख्या) में सितम्बर में पिछले साल के इसी महीने की तुलना में 15.5 फीसदी की वृद्धि हुई। ये भी सामने आया है कि भारत के बाद चीन (10.1 फीसदी) और रूसी फेडरेशन (7.3 फीसदी) है।

Loading...

इस दौरान क्षमता के संदर्भ में भारत के घरेलू एएसके (उपलब्ध यात्री क्षमता) में सितंबर में 13.9 फीसदी की वृद्धि हुई है, वहीं चीन में 10.7 फीसदी तथा रूसी फेडरेशन में 7.2 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई है।

अपने सितम्बर के ग्लोबल पैसेंजर ट्रैफिक डेटा में आईएटीए ने कहा है कि अमेरिकी बाजार में घरेलू मांग में सितम्बर में पिछले साल के इसी महीने की तुलना में 4.2 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई, जिसका कारण प्रमुख रूप से मौसम की गड़बड़ी रहा, जिसका सभी आरपीके पर 40 फीसदी से अधिक असर पड़ा।

इस रिपोर्ट अनुसार भारत और चीन दो अंकों के सालाना यातायात के साथ सभी बाजारों में सबसे आगे हैं, जबकि बाकी जगह मिलीजुली स्थिति रही। आईएटीए का कहना है कि अमेरिका में चरम मौसम की घटनाओं के भारी प्रभाव के बावजूद सितंबर में यात्रियों की मांग में अच्छी वृद्धि देखी गई। हालाँकि बेशक वैश्विक आर्थिक स्थितियों से यात्रियों की संख्या को समर्थन मिल रहा है।  मगर उच्च लागत के कारण कम किराए के कारण बढऩे वाली मांग में कमी आ सकती है। वहीं यात्रियों की संख्या की वृद्धि दर ठीकठाक बनी रहेगी।

Follow us on facebook -