नोटबंदी के खिलाफ आये RSS नेता, तोड़ा संगठन से 40 वर्ष पुराना नाता

तिरुवनंतपुरम : केरल में अपने पाँव पसारने में लगे आरएसएस को तगड़ा झटका लगा है। सरकार के द्वारा नोटबंदी के एलान के बाद अब विपक्ष ने जहाँ एक दिन के भारत बंद का एलान किया है वहीं, नोटबंदी के खिलाफ केरल में आरएसएस के नेता पी पद्मकुमार सीपीएम में शामिल हो गए। जिसके बाद से सभी चौंके हुए हैं।

नोटबंदी के खिलाफ आये RSS नेता, तोड़ा संगठन से 40 वर्ष पुराना नाता

बताया जा रहा है कि, केरल में आरएसएस के स्थानीय नेता संघ परिवार से चार दशक पुराना रिश्ता तोड़कर मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी में शामिल हुए।

‘हिंदू एक्या वेदी’ के प्रदेश सचिव रह चुके पी पद्मकुमार ने रविवार को सीपीएम का दामन थामने के बाद कहा कि, बीजेपी-आरएसएस की ‘राजनीतिक हिंसा’ और ‘अमानवीय रुख’ से आजिज आकर उन्होंने सत्तारूढ़ सीपीएम में शामिल होने का फैसला किया।

Loading...

पद्मकुमार ने सवाल किया है कि, अगर आरएसएस-बीजेपी के अमानवीय रुख और हिंसा की राजनीति की वजह से कितने ही परिवार अनाथ हो गए।

पद्मकुमार सीपीएम के जिला सचिव अनावूर नागप्पन के साथ मीडिया से मिले। उन्होंने कहा कि, ‘मैं आरएसएस के अमानवीय रुख और हिंसा की राजनीति के खिलाफ था। 1000 और 500 रुपये के पुराने नोटों का चलन बंद होना अंतिम वार था और मैंने संगठन छोड़ने का फैसला किया है।’

बता दें कि, आरएसएस और उसके अनुषांगिक संगठनों ने नोटबंदी का समर्थन किया है और प्रधानमंत्री मोदी के साथ हैं।

Follow us on facebook -