फ़ारूक़ अब्दुल्ला ने कश्मीरी पंडितों के घावों पर नमक छिडका, कहा कोई कटोरा लेकर उनकी वापसी की भीख नहीं मांगेगा

दिल्ली : अपनी ही भूमि से भगाए गये कश्मीरी पंडितों के जख्मों पर एक बार फिर से नमक छिडकते हुए पूर्व मुख्यमंत्री फ़ारूक़ अब्दुल्ला ने उनके घाटी में ना लौटने को लेकर उन्हें ही जिम्मेदार बताया है ।

कश्मीरी पंडितों के घाटी से विस्थापन को 26 साल हो गए। जो अभी भी वापस लौटने की प्रतीक्षा में है। लेकिन सुरक्षा कारणों से वह अभी भी सहमे हुए हैं जिस कारण वो घाटी में नहीं बस पा रहे ।

Farooq Abdullah

इसी बीच फ़ारूक़ अब्दुल्ला ने पंडितों की घाटी में वापसी को लेकर तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि, घाटी में वापस लौटने की ज़िम्मेदारी पंडितों की है।

मीडिया से बातचीत में फ़ारूक़ अब्दुल्ला ने कहा कि, कोई कटोरा लेकर पंडितों के पास वापस लौटने की भीख मांगने नहीं जाएगा । जम्मू कश्मीर का मुख्यमंत्री रहते हुए फ़ारूक़ अब्दुल्ला ने कई बार पंडितों को वापस लाने की कोशिश की थी।

फारुख अब्दुल्ला ने कहा कि, मैं पहले से ही कहता आया हूं कि अंतिम गोली के रुकने तक का इंतज़ार नहीं करना चाहिए।

Loading...

उन्होंने बताया कि, यहां से गए कश्मीरी पंडितों में से अधिकतर लोगों ने अपना घर, अपनी जमीन बेच दी है। सिर्फ़ कुछ लोग वहां रुके हुए हैं। कोई भी आपके पास कटोरा लेकर भीख मांगने नहीं आएगा कि आप वापस लौट आएं और हमारे साथ रहें। ये पहल खुद उन्हीं को करनी होगी।

Follow us on facebook -