ममता पर शिव सेना की छलकी ‘ममता’ बताया बंगाल की ‘शेरनी’

ममता पर शिव सेना की छलकी 'ममता' बताया बंगाल की 'शेरनी'

ममता पर शिव सेना की छलकी ‘ममता’ बताया बंगाल की ‘शेरनी’

पश्चिम बंगाल में हिन्दुओ की हालत के लिए जिम्मेदार बंगाल सरकार की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की तारीफ करके शिवसेना अपने हिंदुत्व के मुद्दे से भटकी हुई नजर आ रही है.

उद्धव ठाकरे और ममता बनर्जी की नजदीकियां बढती जा रही है हाल ही में उद्धव ठाकरे और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बीच हुई मुलाकात के बाद शिवसेना ने उनकी तारीफ की है.

Loading...

शिवसेना के मुखपत्र सामना के संपादकीय में ममता बनर्जी को वह ‘शेरनी’ बताया गया है जिसने अपने राज्य से कम्यूनिस्टों को बाहर करके वह काम किया जो कांग्रेस और भाजपा करने में विफल रही थी. ममता बनर्जी ने दो दिन पहले ही ठाकरे से मुंबई में मुलाकात की थी.

सामना के छपे लेख में आगे लिखा है कि ममता के कुछ बयान भले ही विवादित हों और शिवसेना को पसंद ना आए हों, लेकिन उन्होंने कम्यूनिस्टों को राज्य से निकालकर वह काम किया जिसके लिए शिवसेना भी लड़ रही है.

केंद्र सरकार का जिक्र किए बिना चुटकी लेते हुए लिखा गया है कि ममता ने यह काम EVM से छेड़ाछाड़ और वोटरों को खरीदे बिना किया है. बता दें कि इसी साल पांच राज्यों में हुए चुनाव के नतीजें आने के बाद केंद्र सरकार पर EVM से छेड़छाड़ के आरोप लगे थे.

सामना में आगे लिखा गया है कि जो लोग हमारी मुलाकात पर सवाल उठा रहे हैं वे ये बताएं कि उन्होंने सत्ता के लालच में आकर कश्मीर में अलगाववादियों से हाथ क्यों मिलाया?

सामना में राम विलास पासवान पर हमला बोलते हुए लिखा गया है कि जिन्होंने गोधरा दंगों के बाद पार्टी का साथ छोड़कर इस्तीफा दे दिया था उन्हें फिर से साथ क्यों लिया गया?

साथ ही लेख में कश्मीरी पंडितों और राम मंदिर का भी जिक्र किया गया है. सामना में लिखे इस लेख को शिवसेना और तृणमूल कांग्रेस के बीच बनते बिगड़ते राजनैतिक संबंधो को मद्देनजर देखा जा रहा है.

Follow us on facebook -