ये 6 लोग रहेंगे हमेशा दुखी, चाहें कितना भी धन कमा ले या कितनी भी मेहनत कर लें – विदुर निति

ये 6 लोग रहेंगे हमेशा दुखी, चाहें कितना भी धन कमा ले या कितनी भी मेहनत कर लें – विदुर नितिये 6 लोग रहेंगे हमेशा दुखी, चाहें कितना भी धन कमा ले या कितनी भी मेहनत कर लें – विदुर निति

महापुरुषो द्वारा समय पर अनेक नीतियाँ बताई गयी है जिनको अपना कर समझ का व्यक्ति अपने जीवन में उन्नति ला सकते है आज हम आप को महाभारत में विदुर जी की बताई गई नीतियों न सिर्फ उस समय में उपयोगी थीं, बल्कि आज भी बहुत महत्व रखती हैं.

विदुर ने अपनी नीतियों व्यक्ति को बहुत से बातों से अवगत कराया गया है. इन्हीं नीतियों में से एक में उन्होंने 6 ऐसे लोगों के बारे में बताया है, जो की सदैव दुखी ही रहते हैं. ये लोग चाहे कुछ भी कर ले, लेकिन किसी न किसी वजह से दुख इनका पीछा कभी नहीं छोड़ता. बतातें है आपको विदुरजी की इस नीति में बताए गए उन 6 लोगों के बारे में.

श्लोक-
ईर्ष्यी घृणी न सन्तुष्ट: क्रोधनो नित्यशड्कित:।।
परभाग्योजीवी च षडेते नित्यदु:खिता:।।

Loading...

दूसरों से जलन करने वाला 
जो दूसरों की खुशी को देखकर दुखी होते है या उनसे जलन करने लगते हैं, वे भी कभी खुश नहीं रह पाते. एेसे लोग चाहे कितनी भी कोशिश कर लें, लेकिन किसी न किसी कारण से वे दुखी ही रहते हैं.

दूसरों सो नफरत करने वाले
जो लोग दूसरों को खुद से छोटा समझते हैं या उनसे नफरत करते हैं. उन पर भी दुख का साया बना रहता है. दूसरों से घृणा करने वाला व्यक्ति चाहे कुछ भी कर लें, लेकिन खुद को कभी खुश नहीं रख पाता.

हमेशा असंतुष्ट रहने वाले 
कई लोगों के पास कितनी भी सुख-सुविधा क्यों न हो, लेकिन वह कभी संतुष्ट नहीं हो पाते. एेसे लोग हर समय अपनी जरूरत से ज्यादा की उम्मीद लगाए रखते हैं और इसी कारण हमेशा दुखी रहते हैं.

हमेशा गुस्सा करने वाले  
कई लोग बेवजह या ज्यादा गुस्सा करते हैं. गुस्सा न की सिर्फ उनका नुकसान करता है बल्कि उनकेे दुख का कारण बनता है. वे चाहे कितनी भी मेहनत कर लें, धन कमा लें, लेकिन इस आदत की वजह से वह हमेशा दुखी रहते हैं.

हमेशा शक करने वाले 
कुछ लोग हर समय दूसरों पर शक करने की आदत होती है. कोई चाहे भला ही क्यों न हो, लेकिन एेसे लोग विश्वास नहीं कर पाते, बेवजह शक करने की आदत इंसान के लिए दुख लाती है.

दूसरों के भाग्य पर जीवन जीने वाले 
जो लोग आलसी, कामचोर होते हैं, स्वयं मेहनत न करते हुए दूसरों के भरोसे और उनके भाग्य के सहारे जीवन जीते हैं, वे कभी खुश नहीं रह पाते क्योंकि ऐसे लोगों का दुख कभी साथ नहीं छोड़ता.

अन्य संबंधित लेख 

सनातन धर्म और सनातनीयों के विरुद्ध मैकाले की छ: कूटनीतियां :- पूरी शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती

आचार्य चाणक्य के अनुसार जानिए स्त्री की सबसे बड़ी ताकत क्या है

जानें आचार्य चाणक्य के अनुसार प्रत्येक व्यक्ति के पांच पिता होते हैं

किसी भी व्यक्ति को परखना है तो ध्यान रखें ये 4 बातें – आचार्य चाणक्य

स्वार्थी व्यक्ति नमस्कार करे तो सावधान हो जाइये – आचार्य चाणक्य

 

Follow us on facebook -