जानें – वास्तुशास्त्र के अनुसार घर की किस दिशा में होना चाहिए जूते-चप्पल रखने का स्थान

जानें – वास्तुशास्त्र के अनुसार घर की किस दिशा में होना चाहिए जूते-चप्पल रखने का स्थान

 जानें - वास्तुशास्त्र के अनुसार घर की किस दिशा में होना चाहिए जूते-चप्पल रखने का स्थान

वास्तुशास्त्र में अनेको समस्याओ का समाधान है. आप स्वयं वास्तु शास्त्र के माध्यम से इन घरेलू समस्याओं का समाधान आसानी से कर सकते हैं।

इसके लिए आपको कुछ वास्तु नियमों का पालन करना होगा। जिससे आपके घर में प्रवेश होने वाली नकारात्मक ऊर्जा दूर होगी और आपके घर में सुख-शांति बनी रहेगी।

अब हम आपको बताते हैं वास्तु के कुछ खास नियम …..

आप अपने घर में पुराने जूते चप्पल जो उपयोग के न हों उन्हें घर में ना रखें। इससे घर में नकारात्मक ऊर्जा बनी रहती है और आपके घर से समस्याऐं जाने का नाम ही नहीं लेती हैं।

Loading...

इसलिए उपयोग में आने वाले जूते – चप्पल को एक व्यवस्थित ढंग से उचित स्थान पर हमेशा पश्चिम की ओर ही रखें।

जानें - वास्तुशास्त्र के अनुसार घर की किस दिशा में होना चाहिए जूते-चप्पल रखने का स्थान

 

 

पढ़ें अन्य संबंधित वास्तु टिप्स 

भूलकर भी इन 7 तस्वीरों को घर में ना रखें, आती है गरीबी और दुर्भाग्य

5 वस्तुएं जिन्हें घर में रखने से आती है दरिद्रता

आइए जानें वास्तुदोषों से होने वाले रोग और उनके उपाय

आइए जानें वास्तुदोषों से होने वाले रोग और उनके उपाय

कैसे चित्र हों प्रत्येक कमरे में वास्तु टिप्स

प्राचीन भारतीय विज्ञान वास्तु शास्त्र के इन टिप्स से आप रहेंगे स्वस्थ

इन वस्तुओं को कभी जमीन पर न रखें, ऐसा करने से घर में आती है दरिद्रता

ये पौधा करता है मुसीबत की भवि‍ष्यवाणी

अनजाने में हुए पापों के प्रायश्चित के लिए श्री कृष्ण ने बताए हैं ये 4 उपाय :-

वास्तुशास्त्र के अनुसार, अगर बाहर पहननने वाली चप्पलों को घर के भीतर पहना जाता है तो बाहर की नकारात्मक ऊर्जा हमारे जूतों के जरिए घर में प्रवेश कर जाती हैं।

इसलिए घर में प्रवेश करने से चप्पल बाहर ही उतार देनी चाहिए।

जूते-चप्पल घर के बाहर या घर के अंदर ऐसे स्थान पर रखना चाहिए जहां से गंदगी पूरे घर में न फैले। घर के बाहर भी जूते-चप्पलों को व्यवस्थित ढंग से ही रखा जाना चाहिए।

बेतरतीब रखे गए जूते-चप्पल वास्तु दोष उत्पन्न करते हैं। अत: इससे बचना चाहिए। यदि घर में चप्पल पहनना ही पड़े तो घर के अंदर की चप्पल दूसरी रखें, जिसे बाहर पहनकर न जाएं।

Follow us on facebook -