इस हिन्दू महिला ने रचा इतिहास, बनी पाकिस्तान कि पहली महिला सांसद

अल्पसंख्यको पर हमलों और अत्याचारों के लिए मशहूर पाकिस्तान में पहली बार उलटफेर हुआ है पाकिस्तान के सिंध प्रांत के थार की रहने वाली कृष्णा कुमारी कोलही सेनेटर चुनी जाने वाली पहली हिंदू महिला बनी हैं।

इस हिन्दू महिला ने रचा इतिहास, बनी पाकिस्तान कि पहली महिला सांसद

हिन्दू दलित समुदाय से सम्बन्ध रखने वाली 39 साल की कोलही बिलावल भुट्टो जरदारी के नेतृत्व वाले पाकिस्तान पीपल्स पार्टी (PPP) की तरफ से चुनी गई हैं। पाकिस्तान के ‘द डॉन’ के मुताबिक, कृष्णा ने सिंध प्रांत की उस सीट से जीत हासिल की है जो महिलाओं के लिए आरक्षित थी।

कृष्णा का सेनेट के लिए चुना जाना पाकिस्तान में रह रहे अल्पसंख्यकों के अधिकारों और महिलाओं के लिए मील का पत्थर माना जा रहा है। कोलही सिंध प्रांत में थार के सुदूर नगरपारकर जिले की रहने वाली हैं।

कृष्णा ने चुनाव में तालिबान से जुड़े एक मौलाना को हराया है। एक गरीब परिवार में जन्मीं कृष्णा के पिता किसान थे। 1979 में जन्मीं कृष्णा की 16 साल की उम्र में ही शादी हो गई थी। उस समय कृष्णा 9वीं क्लास में थीं।

साल 2013 में सिंध यूनिवर्सिटी से समाजशास्त्र में मास्टर्स की डिग्री हासिल करने वाली कृष्णा ने शादी के बाद अपनी पढ़ाई जारी रखकर ये मुकाम प्राप्त किया है कृष्णा अपने भाई के साथ ऐक्टिविस्ट के तौर पर PPP में शामिल हुई थीं।

Loading...

कोलही ने थार में हाशिये पर जी रहे लोगों के अधिकारों की भी आवाज उठाई। कृष्णा स्वतंत्रता सेनानियों के परिवार से हैं। बता दें कि पाकिस्तान के अपदस्थ प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की पार्टी पीएमएल-एन को अनंतिम परिणामों के अनुसार सेनेट में शनिवार को 15 सीटों पर जीत हासिल हुई थी। इस जीत के साथ ही वह संसद के उच्च सदन में सबसे बडी़ पार्टी बनकर उभरी।

Follow us on facebook -